समाचार
उप्र- अपराधियों का सफाया कर कैराना में स्थिति को सामान्य बनाया योगी सरकार ने

एक माह पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया था कि कैराना की स्थिति अब सामान्य हो चुकी है। इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट कर यह भी बताया था कि कैराना और कांधला के बीच एक प्रादेशिक सशस्त्र पुलिस (पीएसी) कैंप स्थापित किया जाएगा।

इस घोषणा के बाद जागरण  ने जमीनी स्तर पर पड़ताल कर बदलते हालातों का जायज़ा लिया। इसमें पता चला कि परिवारजनों की हत्या या रंगदारी के डर से जो लोग कैराना छोड़कर चले गए ते, वे अब पुनः लौटकर आ गए हैं।

वर्ष 2014 में कैराना मुस्लिम माफिया की गिरफ्त में आ गया था और कानून व्यवस्था बिगड़ने लगी थी। 30 मई 2016 को तत्कालीन सांसद हुकुम सिंह ने मीडिया के सामने इस स्थिति को उजागर किया और बताया कि कैराना से 346 और कांधला से 63 परिवार पलायन कर चुके हैं।

हालात की गंभीरता को समझते हुए भाजपा ने विधानसभा चुनाव 2017 में पलायन मुद्दे को उठाया और बहुमत मिलने के बाद हालातों को सामान्य करने के लिए अभियान चलाया गया। लोग बताते हैैं कि दुर्दांत मुकीम काला की धरपकड़ और कई अपराधियों के सफाए के बाद यहाँ की स्थितियाँ बदलीं।

शहर में सिनेमाघर व पेट्रोल पंप फिर से खुले हैं। रात नै बजे तक दुकानें खुली रहती हैं व चाट के ठेलों पर भीड़ भी लगती है। कई कारोबारी जमकर अपना कारोबार कर रहे हैं और कानून पर विश्वास जताते हैं।