समाचार
जस्टिस बोबडे होंगे सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, राष्ट्रपति कोविंद ने किए हस्ताक्षर

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे सर्वोच्च न्यायालय के 47वें मुख्य न्यायाधीश होंगे। वे वर्तमान मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के सेवानिवृत्त होने के बाद पद संभालेंगे।

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, सरकारी सूत्रों ने बताया कि जस्टिस बोसडे की नियुक्ति के पत्र पर राष्ट्रपति ने हस्ताक्षर कर दिए हैं, जल्द ही इसकी औपचारिक घोषणा हो जाएगी।

जस्टिस बोबडे 18 नवंबर को नए मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ लेंगे।

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के अनुसार, 24 अप्रैल 1956 को नागपुर में जन्मे बोबडे वर्तमान में सर्वोच्च न्यायालय के सबसे वरिष्ठ न्यायाधीशों में से एक और साथ ही वे महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, मुंबई और महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, नागपुर के चांसलर भी हैं। बोबडे ने नागपुर विश्वविद्यालय से बीए और एलएलबी डिग्री ली है।

बोबडे अपर न्यायाधीश के रूप में 29 मार्च 2000 को बॉम्बे उच्च न्यायालय की खंडपीठ का हिस्सा बने। 16 अक्टूबर 2012 को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय को मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। 12 अप्रैल 2013 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया। जस्टिस बोबडे 23 अप्रैल, 2021 तक मुख्य न्यायाधीश रहेंगे।

जस्टिस बोबडे ने आधार कार्ड पर दिए गए निर्णय की पीठ की अगुवाई की थी। वे अयोध्या विवाद के पाँच न्यायाधीशों के पीठ में भी शामिल हैं।