समाचार
स्कूलों के 50 मीटर के दायरे में जंक फूड की बिक्री और प्रचार पर लगेगा प्रतिबंध

जंक फूड से बच्चों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए केंद्र सरकार ने पहल की है। उसने स्कूल के आसपास के 50 मीटर दायरे में इनकी बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की योजना बनाई है। साथ ही स्कूलों के आसपास इनके प्रचार-प्रसार पर भी पाबंदी लगाएगी।

डीडी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार ने स्कूलों के आसपास जंक फूड की बिक्री रोकने का नियम तैयार किया है। जल्द इसे लागू किया जाएगा। खाद्य नियामक एफएसएसआई ने 3 दिसंबर तक इसको जनता के सुझाव के लिए रखा है। कोई भी इसकी वेबसाइट पर जाकर सुझाव दे सकता है। तीन दिसंबर के तीन महीने बाद इस नियम को सभी स्कूलों के आसपास लागू कर दिया जाएगा।

यूनीसेफ की रिपोर्ट बताती है कि 10 से 19 वर्ष की आयु तक के 50 प्रतिशत बच्चे कुपोषण का शिकार हैं या फिर दुबले व अत्यधिक मोटे हैं। रिपोर्ट तो यह भी कहती है कि देश के हर दूसरे बच्चे में से एक बीमार है। बच्चों को सेहतमंद भोजन मिले इसको लेकर खाद्य नियामक एफएसएसआई नया नियम लेकर आया है।

एफएसएसआई ने खाद्य सुरक्षा और मानक ( स्कूली बच्चों के सुरक्षित भोजन और स्वस्थ आहार) विनियम 2019 बनाया है। इसके तहत स्कूल परिसर के 50 मीटर के दायरे में जंक फूड की बिक्री और इसके प्रचार-प्रसार पर प्रतिबंध लगाया जाएगा।

नियम की शर्तें

  • इस नियम के तहत स्कूल के अंदर जंक फूड प्रतिबंधित होगा।
  • अभिभावक बच्चे को स्कूल के खाने में जंक फूड नहीं दे सकेंगे।
  • स्कूल के कार्यक्रमों में जंक फूड के प्रचार और इसके सैंपल बाटने पर रोक लगेगी।
  • स्कूल कार्यक्रमों के लिए जंक फूड का व्यापार करने वालों से प्रायोजन नहीं ले सकेगा।
  • स्कूल की कैंटीन को एफएसएसएआई में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।
  • साफ-सुथरे तरीके से खाना बनाने के नियमों का पालन करना होगा।
  • चीन, नमक की अत्यधिक मात्रा वाले खाद्य पदार्थों पर प्रतिबंध होगा।
  • स्कूल भोजन की बर्बादी रोकने के लिए छात्रों को जागरूक करेगा।