समाचार
जेपी नड्डा एकादशी के अवसर पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने हेतु तैयार

दिल्ली विधानसभा चुनावों से ठीक पहले और एकादशी के पवित्र मौके पर, ‘दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी’, यानी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सोमवार (20 जनवरी) को दोपहर 2.30 बजे एक नया अध्यक्ष मिलेगा और नया अध्यक्ष अमित शाह के युग का अंत करेगा। वर्तमान में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा या जेपी नड्डा निर्विरोध जीतने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

एकादशी तिथि पर नए अध्यक्ष की घोषणा का चयन, इस शुभ अवसर को ध्यान में रखते हुए किया गया है।

तथ्य यह है कि भाजपा ने कहा है कि यह घोषणा दोपहर तक की जाएगी कि जेपी नड्डा के अलावा कोई और नहीं है जिसे मोदी-शाह की जोड़ी का समर्थन है। इससे पहले पार्टी ने एक आधिकारिक विज्ञप्ति के माध्यम से कहा था कि, “यदि चुनाव आवश्यक है”, तो यह 21 जनवरी को होगा।

गौरतलब है कि इसकी घोषणा एक दिन पहले ही की जाएगी जो एक स्पष्ट संकेत है कि पहली बार में कोई चुनाव नहीं होगा जैसा कि अनुमान लगाया गया था।

इस बीच, सभी वरिष्ठ मंत्रियों से सोमवार को पार्टी कार्यालय में रहने के लिए कहा गया है। भाजपा अध्यक्ष पद के लिए नामांकन प्रक्रिया सुबह 10 बजे शुरू होगी और दोपहर 12.30 बजे तक चलेगी।

अगले घंटे के लिए, दाखिल किए गए नामांकन पत्रों की जाँच की जाएगी और यदि कोई उम्मीदवार नामांकन वापस लेना चाहता है तो 2.30 बजे तक एक और घंटा नामांकन वापस लेने के लिए प्रदान किया जाएगा।

हालांकि, कई लोगों का मानना ​​है कि चुनाव पूर्व गठबंधन या शीर्ष संगठनात्मक नियुक्तियों जैसे सभी बड़े फैसलों पर शाह का अंतिम निर्णय होगा लेकिन वे संगठन की दैनिक निगरानी से मुक्त रहेंगे।

बता दें कि शाह स्वयं ऐसा चाहते थे, जिसके कारण नड्डा को अनुच्छेद 370, ट्रिपल तालाक और अंत में नागरिकता संशोधन अधिनियम जैसे महत्वपूर्ण विधान पर पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में लाया गया था जिसका मतलब था कि अमित शाह, जो देश केे गृह मंत्री भी हैं, को अपनी प्राथमिकता तय करनी थी।

(इस समाचार को आईएएनएस की सहायता से प्रकाशित किया गया है।)