समाचार
जम्मू-कश्मीर में आतंकी खतरों से निपटने के लिए ग्राम रक्षा समितियाँ फिर सक्रिय

केंद्र शासित प्रदेश के रियासी जिले में आतंकी खतरों से निपटने के लिए जम्मू-कश्मीर की ग्राम रक्षा समितियों (वीडीसी) को फिर से सक्रिय कर दिया गया है।

ये वीडीसी कथित तौर पर आतंकवादियों के विरुद्ध आत्म और सामुदायिक रक्षा के लिए अत्यधिक प्रतिबद्ध हैं। गत कुछ वर्षों में उन्होंने जम्मू के दूरस्थ पहाड़ी क्षेत्रों को आतंकियों से भी सुरक्षित रखा है।

रियासी जिले के पुलिस प्रमुख शैलेंद्र सिंह ने भी वहाँ पर करीब 6000 वीडीसी सदस्यों के अभ्यास के लिए सप्ताह भर की कार्य योजना तैयार की है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जिन लोगों ने लंबे समय से अपने हथियारों की जाँच और गोलीबारी नहीं की है, उनके लिए यह गतिविधि आवश्यक है।

इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में शैलेंद्र सिंह के हवाले से कहा गया, “वीडीसी एक बल गुणक होने के नाते दूरदराज के क्षेत्रों में राष्ट्र विरोधी तत्वों की किसी भी गलत मंशाओं को विफल करने के लिए पहली प्रतिक्रिया के रूप में माना जाता है।”

इसके अनुसार, तलवारा का एक केंद्र कटरा और रियासी के वीडीसी सदस्यों को प्रशिक्षित करेगा, जबकि अर्नास पुलिस सब-डिवीजन के प्रतिभागी रुद खद क्षेत्र में अपने अभ्यास से गुजरेंगे। इसी तरह, जो वीडीसी सदस्य चसाना और महोर के रहने वाले हैं, वे सिलधर महोर में संबंधित केंद्र में अभ्यास करेंगे।