समाचार
श्रीनगर के निवासी इश्फाक के खात्मे के बाद आतंकी गतिविधियों में सक्रिय नहीं- पुलिस

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों के लिए एक प्रमुख उपलब्धि के तौर पर यह घोषित किया गया कि लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के शीर्ष कमांडर इश्फाक के खात्मे के बाद कोई भी श्रीनगर निवासी आतंकवादी गतिविधियों में सक्रिय नहीं है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, यह सूचना रविवार को पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) विजय कुमार ने सार्वजनिक की थी।

श्रीनगर के सोज़िथ क्षेत्र के निवासी खान को हाल ही में शहर के बाहरी क्षेत्र रणबीरगढ़ में एक मुठभेड़ में मार दिया गया था। उसी मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने पुलवामा जिले से आए एक अन्य आतंकवादी एजाज़ अहमद भट को भी मार गिराया था।

यह विकास उन दिनों के बाद आया है, जब आईजीपी कुमार ने खुद सार्वजनिक रूप से यह बात कही। उन्होंने कहा, “श्रीनगर एक ऐसा शहर है, जहाँ आतंकवादियों का आना-जाना रहता है। कभी-कभी वे चिकित्सा उपचार, बैठकों या धन इकट्ठा करने के लिए आते हैं। श्रीनगर कभी भी उग्रवादी मुक्त नहीं हो सकता, जब तक कि यहाँ उग्रवाद है।”

इस बीच, सुरक्षाबलों की आक्रामक कार्रवाई की वजह ये यह बड़ी सफलता आई है। हाल ही के महीनों में कश्मीर घाटी में सक्रिय आतंकवादियों के खिलाफ अभियान बढ़ा दिए गए, जिसके बाद कई आतंकियों को मार दिया गया।