समाचार
जम्मू स्थित देश की सबसे लंबी चेनानी-नाशरी सुरंग का नाम डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी रखा

जम्मू में उधमपुर को रामबरन से जोड़ने वाली देश की सबसे लंबी 9 किमी की चेनानी-नाशरी सुरंग का एक समारोह में आधिकारिक तौर पर नाम गुरुवार (24 अक्टूबर) को बदलकर भारतीय जन संघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रख दिया गया है।

2,500 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई यह सुरंग 31 किमी की यात्रा दूरी को कम करती है, जिससे ईंधन की लागत की पर्याप्त बचत हो सकेगी। साथ ही यह दो जगहों की यात्रा के बीच लगने वाले समय को करीब दो घंटे कम कर देती है।

समारोह के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और जितेंद्र सिंह ने भाग लिया था, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में आगामी इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं पर बात की।

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी ने कहा, “पिछले 5 वर्षों के दौरान राज्य में 6,000 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं पर काम किया गया। इनमें जम्मू और श्रीनगर दोनों के आसपास रिंग रोड और दूसरों के बीच जोजिला टनल का निर्माण शामिल है। ये परियोजनाएँ राज्य के लोगों के लिए एक बड़े परिवर्तन का काम करेंगी, जिससे रोजगार और सामाजिक-आर्थिक विकास होगा।”

वहीं, जितेंद्र सिंह ने याद किया, “कैसे डॉ. मुखर्जी को लखनपुर से अवैध रूप से गिरफ्तार किया गया था और चेनानी-नशरी के माध्यम से श्रीनगर ले जाया गया था। मुखर्जी उस समय लोकसभा के सदस्य थे। यह श्रमिकों के संघर्ष के लिए एक श्रद्धांजलि है। यह उनकी एक विधा, एक निशान, एक प्रधान की प्रतिज्ञा को फिर से परिभाषित करता है।”