समाचार
जेट एयरवेज ने की अपनी सभी उड़ानें रद्द, बुधवार रात 10:30 पर उड़ा था आखिरी विमान

जेट एयरवेज के प्रबंधन ने बुधवार (17 अप्रैल) को अपनी सभी उड़ानों को रात 10:30 बजे से अस्थायी रूप से निलंबित करने का फैसला लिया। जेट एयरवेज के विमान ने आखिरी उड़ान कल रात 10:30 बजे भरी और उसके बाद की सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया।

पिछले सप्ताह यह कंपनी ने भारी कर्ज़े और बढ़ते ऋण की वजह से मात्र  30-40 उड़ानें भरी थी। जेट के सीईओ विनय दुबे द्वारा 400 करोड़ रुपये के ऋण की अपील के बाद कंपनी किस्मत पर  ताला लग गया। मार्च 2018 में जब कंपनी ने अपने कर्मचारियों को उनका वेतन देने में देरी की और शीर्ष प्रबंधन के वेतन में 25 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की तब उनके संकट और ज़्यादा बढ़ गए।

1993 में शुरू हुई जेट एयरवेज 2010 तक भारत की सबसे बड़ी एयरवेज कंपनी के रूप में सामने आई। अपनी प्रीमियम सेवाओं के चलते कंपनी ने अच्छा खासा व्यापर किया साथ ही अपनी सेवा से विश्वभर के यात्रिओं का ड़याँ अपनी तरफ केंद्रित किया था। खबर है कि जेट एयरवेज ने यूएई एयरलाइन को अपने 24 प्रतिशत शेयर बेचने के लिए इथैड एयरवेज  के साथ एक सौदे पर हाथ मिलाया था।