समाचार
सर्वोच्च न्यायालय ने खारिज की पुनर्विचार याचिका, नीट और जेईई मेंस की परीक्षाएँ यथावत

सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार (4 सितंबर) को फिर से नीट और जेईई मेंस की परीक्षाओं पर रोक लगाने वाली छह गैर-भाजपा शासित राज्यों के मंत्रियों की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, 17 अगस्त के फैसले को चुनौती देते हुए पश्चिम बंगाल के मलय घटक, झारखंड के रामेश्वर ओरांव, राजस्थान के रघु शर्मा, छत्तीसगढ़ के अमरजीत भगत, पंजाब के बीएस सिद्धू और महाराष्ट्र के उदय रवींद्र सावंत ने याचिका दायर की थी।

याचिका दायर करने वालों का दावा था कि सर्वोच्च न्यायालय छात्रों के जीने के अधिकार को सुरक्षित करने में विफल रही है। न्यायालय ने महामारी के दौरान परीक्षाओं के होने पर आने वाली परेशानियों को दरकिनार किया है।

न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की तीन सदस्यीय पीठ ने पुनर्विचार याचिका पर विचार करने के बाद खारिज कर दिया। बता दें कि परीक्षा करवाने को लेकर न्यायालय ने 17 को आदेश दिया था। इसके बाद इसे राजनीतिक रंग दे दिया गया।

जेईई मेंस परीक्षा 1 से 6 सितंबर तक आयोजित कर रही है, जबकि नीट की परीक्षाओं का आयोजन 13 सितंबर को होगा। यह पहली ऐसी परीक्षा है, जिसे महामारी के बीच देश में बड़े पैमाने पर आयोजित किया जा रहा है।