समाचार
जापान ने दिया समर्थन, कहा- “भारत के बगैर आरसेप में शामिल नहीं होंगे”

रीजनल कॉम्प्रिहेंसिव इकोनॉमिक पार्टनरशिप (आरसेप) को लेकर जापान ने साफ कर दिया है कि वह भारत के बगैर इसमें शामिल नहीं होगा। अब इस मुद्दे पर भारत को जापान का पूरी तरह समर्थन मिल गया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, जापान ने यह घोषणा दोनों देशों के विदेश और रक्षा मंत्रियों की प्रस्तावित बैठक से पहले की। उसने साफ कर दिया कि वह तब तक आरसेप में शामिल नहीं होगा, जब तक इसमें शामिल देश भारत की चिंताओ पर ध्यान देते हुए उसे इसका हिस्सा नहीं बनाएँगे।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह कहते हुए आरसेप से खुद को अलग कर लिया था कि इसमें भारत के हितों का खयाल नहीं रखा गया है। इससे भारत के छोटे उद्योगों और कृषि क्षेत्र को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

चीन ने भारत के निर्णय के बाद कहा था कि उसके बिना बाकी 15 देश इस समझौते पर आगे बढ़ेंगे। हालांकि, भविष्य में भारत के लिए आरसेप के द्वार खुले रहने की भी बात उसने कही। भारत और जापान एशिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाएँ हैं। इन दोनों देशों के आरसेप से बाहर रहने की स्थिति में इस समझौते की सफलता पर भी नए सिरे से सवाल उठने शुरू हो जाएँगे।