समाचार
जैक मा की कंपनी अलीबाबा पर चीन ने लगाया 2.78 अरब डॉलर का रिकॉर्ड जुर्माना

अरबपति जैक मा की अगुआई वाली विशालकाय प्रौद्योगिकी कंपनी अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लिमिटेड पर अपनी सख्ती जारी रखते हुए चीनी नियामकों ने एकाधिकार विरोधी नियमों का उल्लंघन करने और अपनी बाजार स्थिति का दुरुपयोग करने के लिए कंपनी पर 2.75 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया है।

यह चीन में किसी भी कंपनी पर एकाधिकार व्यापार विरोधी जुर्माने के रूप में लगाई गई सबसे बड़ी राशि है। यह 2019 से अलीबाबा के राजस्व का लगभग चार प्रतिशत है।

गत वर्ष अक्टूबर में समूह के संस्थापक जैक मा ने चीन की नियामक प्रणाली की कड़ी आलोचना की थी। इसके बाद से उनकी कंपनी चीनी प्रतिष्ठान की गहन जाँच के अधीन है।

चीन के स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फॉर मार्केट रेग्युलेशन (एसएएमआर) ने गत वर्ष जैक मा की कंपनी अलीबाबा के खिलाफ जाँच शुरू की थी। इससे पूर्व अधिकारियों ने एंट ग्रुप (अलीबाबा की इंटरनेट फाइनेंस आर्म) के 37 अरब डॉलर के आईपीओ को रोक दिया था।

एसएएमआर ने अपने बयान में कहा कि जाँच के बाद यह तय किया गया है कि अलीबाबा अपने व्यापारियों को अन्य ऑनलाइन ई-कॉमर्स मंच का उपयोग करने से रोककर 2015 से बाजार के प्रभुत्व का दुरुपयोग कर रहा था। यह दावा किया गया कि उसने माल के मुक्त प्रसार को प्रतिबंधित किया और व्यापारियों के व्यावसायिक हितों वाले कानून का उल्लंघन किया। नियामक ने अलीबाबा को पूरी तरह से ऐसी नीतियों में सुधार करने का निर्देश दिया है।