समाचार
खादी ग्रामोद्योग से खरीदी जाएँगी आईटीबीपी जवानों के लिए खाद्य, वस्त्र आदि वस्तुएँ

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने शुक्रवार (31 जुलाई) को खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस तरह केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के लिए आयोग से पहली बार आपूर्ति की शुरुआत हुई।

आईटीबीपी के एक ट्वीट में कहा गया, “भारत-तिब्बत सीमा पुलिस ने केवीआईसी के साथ पहली बार समझौते पर हस्ताक्षर किया है। सीएपीएफ को आयोग की ओर से पहली आपूर्ति की गई। अब जवानों के लिए कई खाद्य, कपड़े व अन्य जारी की गईं चीजें आने वाले दिनों में केवीआईसी से खरीदे जाएँगे।”

समझौते के अनुसार, आईटीबीपी द्वारा खादी ग्रामोद्योग से कुल 1.73 करोड़ रुपये की लागत से 1200 क्विंटल सरसों के तेल की खरीद की जा रही है। केवीआईसी कार्यालय में आयोग अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना और आईटीबीपी मुख्यालय के प्रोविजनिंग ऑफिस से वरिष्ठ अधिकारियों के बीच इस समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

अक्टूबर 2019 में सीएपीएफ के महानिदेशक के गृह मंत्रालय में आयोजित बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया था कि खादी वर्दी और स्वदेशी मूल की अन्य वस्तुओं की आपूर्ति सीएपीएफ को की जाएगी। गृह मंत्री अमित शाह की पिछले दिसंबर में आईटीबीपी मुख्यालय की यात्रा के दौरान खादी ग्रामोद्योग की एक प्रदर्शनी लगाई गई थी।

आईटीबीपी ने सुझाव दिया था कि खादी ग्रामोद्योग के माध्यम से सेनाओं के लिए धोरी, कंबल, तौलिया, सरसों का तेल, योग किट, अस्पताल की चादरें, अचार खरीदे जा सकते हैं। पहले चरण में तीन वस्तुओं धोरी, कंबल, तौलिया की खरीद की जाएगी। इन वस्तुओं की खरीद की प्रक्रिया शुरू हो गई है।