समाचार
आलोचकों को सरदार का जवाब, स्टेच्यू ऑफ़ युनिटी पर रोज़ पहुँच रहे 30,000 पर्यटक

गुजरात के नर्मदा जिले में स्थापित की गई सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा, ‘स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी’ इन दिनों प्रमुख आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। मनी कंट्रोल  की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रतिमा को देखने प्रतिदिन लगभग तीस हज़ार से अधिक पर्यटक पहुँच रहे हैं।

गौरतलब है कि दिनांक 31 अक्टूबर को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने, गुजरात के केवड़िया नगर में साधू बेट नामक टापू पर इस स्मारक का शिलान्यास किया था। यह स्थान नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध के समीप स्थित है।

कुछ समय पूर्व प्रकाशित की गई टाइम्स ऑफ़ इंडिया  की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक महीने में क़रीब 2 लाख 79 हज़ार की संख्या में पर्यटक इस स्मारक को देखने पहुँचे हैं। इन पर्यटकों से, एक महीने में क़रीब 6 करोड़ 38 लाख की आय दर्ज की गई है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है, कि प्रतिदिन, औसतन 8 हज़ार 700 पर्यटक यहाँ पहुँच रहे हैं तथा औसतन रूप से प्रतिदिन क़रीब 20 लाख 81 हज़ार की आय दर्ज की जा रही है।

हाल ही में, दिनांक 3 दिसंबर को, अमेरिका के कौंसल जनरल श्री एडगर्ड कॉगन, स्मारक देखने पहुँचे थे। उन्होंने न केवल 153 मीटर की ऊँचाई पर निर्मित गैलरी में समय बिताया अपितु विंध्याचल तथा सतपुड़ा की पहाड़ियों का नज़ारा भी देखा।
स्मारक देखने के पश्चात् प्रतिक्रिया स्वरूप उन्होंने कहा, “स्मारक काफ़ी भव्य है, तथा इसके निर्माण के पीछे का उद्देश्य जानकर मुझे काफ़ी प्रसन्नता हुई है।”

गौरतलब है कि भारत की आज़ादी के पश्चात् देश की 562 सियासतों को एकजुट कर भारतीय गणराज्य बनाने में सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रमुख भूमिका रही थी। उनके इस अतुल्य योगदान की स्मृति में इस स्मारक का निर्माण किया गया है।

सांस्कृतिक ह्रास को रोकने के लिए स्वराज्य हमेशा प्रयास करता रहा है और इसी प्रयास का अंश है हमारा विरासत कार्यक्रम। अपनी धरोहर के संरक्षण के लिए हमारे प्रयासों को आर्थिक सहायता की आवश्यकता है। इस महायज्ञ में अपनी ओर से आहुति देकर कृपया हमारे संघर्ष को सुदृढ़ करें।