समाचार
इसरो द्वारा वर्ष 2020 का पहला उपग्रह प्रक्षेपण आज नौ विदेशी व्यावसायिक सैटेलाइट संग

कोविड-19 महामारी के दौरान भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) इस वर्ष अपना पहला उपग्रह शनिवार (7 नवंबर) को प्रक्षेपित करने वाला है। इसमें पीएसएलवी सी49 रॉकेट अपने साथ ईओएस01 के रूप में प्राइमरी सैटेलाइट और 9 दूसरे व्यवसायिक सैटेलाइट ले जाएगा।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्य उपग्रह ईओएस01 एक राडार इमेजिंग सैटेलाइट (आरआईएसएटी) है। यह आधुनिक रिसैट है। इसका मानव-निर्मित अपरचर राडार बादलों के पार भी देखने में सक्षम होगा। दिन हो या रात या फिर कोई भी मौसम हो, यह हर परिस्थितियों में काम करने में सक्षम साबित होगा।

इससे सैन्य निगरानी में सहायता मिलेगी। साथ ही खेती, वन, मिट्टी की नमी मापने, भूगर्भ शास्त्र और तटों की निगरानी में यह कारगर साबित होगा।

सैटेलाइट के प्रक्षेपण करने का समय दोपहर 3.02 बजे रखा गया है। अगर मौसम प्रक्षेपण के लिए सुविधाजनक न हुआ तो इसरो की दूसरी योजना भी तैयार है। सब सही रहा तो इस लॉन्च के साथ इसरो 328 विदेशी उपग्रह अंतरिक्ष में भेजने में कामयाब रहेगा। इसके साथ जाने वाले 9 व्यावसायिक उपग्रह विदेशी हैं।

यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का 51वाँ मिशन होगा। इसका सीधा प्रसारण वह अपनी वेबसाइट, यूट्यूब चैनल, फेसबुक और ट्विटर पेज पर करेगा। इसरो दिसंबर में होने वाले अपने बहुप्रतीक्षित नए रॉकेट स्‍मॉल सैटलाइट प्रक्षेपण वाहन का पहला प्रदर्शन करने की भी तेज़ी से तैयारी कर रहा है।