समाचार
सतीश धवन उपग्रह गीता की प्रति और प्रधानमंत्री मोदी का चित्र लेकर जाएगा अंतरिक्ष

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) सतीश धवन उपग्रह (एसडी सेट) के साथ भगवद गीता की एक प्रति को अंतरिक्ष में भेजने को तैयार है। इसे फरवरी के अंत में ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) के माध्यम से लॉन्च के लिए निर्धारित किया गया है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, स्पेसकिड्स इंडिया द्वारा नैनो सैटेलाइट विकसित किया गया है, जो छात्रों के बीच अंतरिक्ष विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए समर्पित संगठन है। सैटेलाइट तीन वैज्ञानिक पेलोड भी ले जाएगा। इनमें से एक अंतरिक्ष विकिरण का अध्ययन करने, दूसरा मैग्नेटोस्फीयर का अध्ययन करने और तीसरा एक कम-शक्ति वाले व्यापक क्षेत्र संचार नेटवर्क का प्रदर्शन करेगा।

डी सेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक चित्र और 25,000 लोगों के नामों को अंतरिक्ष में ले जाया जाएगा। स्पेसकिड्स इंडिया कंपनी की संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर श्रीमथि केसन ने बताया “समूह काफी उत्साहित है। यह अंतरिक्ष में जाने वाला हमारा पहला उपग्रह होगा। हमने जब मिशन को अंतिम रूप दिया तो लोगों से अपने नाम भेजने को कहा। एक सप्ताह में 25,000 नाम मिले। इनमें से 1000 नाम भारत के बाहर के लोगों के थे। हमने ऐसा करने का फैसला किया क्योंकि यह मिशन और अंतरिक्ष विज्ञान में लोगों के हित को बढ़ावा देगा।”

उन्होंने यह भी साझा किया कि कंपनी ने अन्य अंतरिक्ष अभियानों की तर्ज पर भगवद गीता की प्रति भेजने का फैसला किया क्योंकि पहले भी बाइबल जैसी पवित्र पुस्तकों को भेजा गया है। ये सैटेलाइट आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देगी क्योंकि ये पूरी तरह से भारत में विकसित है इसलिए इसके साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर का उपयोग किया गया है।

इसके अतिरिक्त, इसरो प्रमुख डॉक्टर के सिवन और वैज्ञानिक सचिव डॉक्टर आर उमामहेश्वरन के नाम भी नीचे की तरफ होंगे।