समाचार
ईरान ने इराक में दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर एक दर्जन मिसाइलें दागी

बगदाद के हवाई अड्डे के पास अमेरिकी हवाई हमले में  मारे गए ईरानी कुर्द सेना प्रमुख कासिम सुलेमानी के प्रतिशोध में कुछ दिनों बाद, ईरान ने संयुक्त राज्य अमेरिका और गठबंधन सेना के सैनिकों के दो इराक़ स्थित ठिकानों पर एक दर्जन से अधिक मिसाइलें दागी हैं।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि ईरानी इस्लामिक क्रांतिकारी गार्ड संघ (आइआरजीसी) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। कुल 15 रॉकेट छोड़ें गए थे, जिनमें से 10 पश्चिमी इराक में अयन अल-असद बेस और एर्बिल में एक और बेस से टकराए।

हालाँकि, किसी अमेरिकी सैनिक के हताहत होने की  रिपोर्ट नहीं थी, लेकिन स्ट्राइक के प्रभाव का आकलन अभी जारी है, एक अमेरिकी अधिकारी ने सीएनएन से बताया।

इस हमले के बाद, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ, रक्षा सचिव मार्क थोमस और संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष आर्मी जनरल मार्क मैली व्हाइट हाउस पहुँचे।

ईरान के विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ़ ने कहा है ईरान, “वृद्धि या युद्ध की तलाश नहीं करता है, लेकिन किसी भी आक्रमण के खिलाफ खुद की रक्षा करेगा।”

जरीफ ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुच्छेद 51 के तहत ईरान ने आत्मरक्षा के लिए अनुपातिक उपाय किए और  अंजाम दिए। ईरान ने उस सैन्य ठिकाने को निशाना बनाया है जहाँ से ईरानी नागरिकों और वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ कायराना हमला किया गया था।”