समाचार
पीएनबी घोटाला- इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई नेहल के खिलाफ जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस

इंटरपोल ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अनुरोध पर भगोड़े नीरव मोदी के सौतेले भाई नेहल मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस (आरसीएन) जारी किया है। इसके पीछे जाँच एजेंसी का उद्देश्य पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में पूछताछ करना है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, ईडी ने पिछले साल इंटरपोल से अनुरोध किया था कि घोटाले की राशि को बचाने के लिए अपने भाई की मदद करने पर नेहल मोदी के खिलाफ आरसीएन जारी किया जाए।

इसके बाद इंटरपोल ने इस वर्ष 5 जुलाई को नोटिस जारी किया था। हालाँकि, यह निर्णय शुक्रवार को सार्वजनिक किया गया। मुंबई की एक विशेष अदालत ने मामलों में उसके खिलाफ दो गैर-जमानती वॉरंट भी जारी किए हैं।

ईडी अधिकारियों के अनुसार, नेहल मोदी ही था, जिसने नीरव मोदी की कीमती संपत्तियों को सुरक्षित करने और सबूतों को नष्ट करने में प्रमुख भूमिका निभाई थी। इस पर बाद में सीबीआई और ईडी ने पीएनबी के करीब 13,600 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

नेहाल पर नीरव मोदी की दुबई स्थित कंपनी फायरस्टार डायमंड एंड ज्वैलरी से 50 किलो सोना और हॉन्गकॉन्ग से 150 पेटी मोती सुरक्षित स्थानों पर भेजने का भी आरोप है। यह भी माना जा रहा है कि नेहल, नीरव मोदी के बैंक से लिए कर्ज के पैसों को लूटने के लिए बनाई गई कुछ शेल कंपनियों से भी जुड़ा था।

ईडी के रेड कॉर्नर नोटिस जारी करवाने के अनुरोध को चुनौती देते हुए नेहल ने इंटरपोल आयोग से कहा था, “अगर उसे भारत प्रत्यर्पित किया गया तो वहाँ निष्पक्ष सुनवाई नहीं की जाएगी।” उसने दावा किया, “परिवार से संबंध होने की वजह से उसका नाम घसीटा घसीटा जा रहा है। वह नीरव मोदी के व्यवसायों में शामिल नहीं था।”