समाचार
अयोध्या में हवाई अड्डे के साथ सरयू पर क्रूज़ भी, “आध्यात्मिक नगरी बनेगी अयोध्या”- सिंह

सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद अयोध्या में रिसॉर्ट, पाँच सितारा होटल, अंतर-राज्यीय बस टर्मिनल और हवाई अड्डे के निर्माण की योजना के साथ-साथ उत्तर प्रदेश सरकार सरयू नदी पर क्रूज़ शुरू करने पर भी विचार कर रही है।

इय योजना को विस्तार से समझाते हुए अयोध्या मंडल के उप-निदेशक मुरलीधर सिंह ने बताया कि अयोध्या तीर्थ विकास परिषद का गठन किया जाएगा। “अयोध्या में सरयू नदी पर क्रूज़ शुरू करने की योजना है। लगभग चार वर्षों में अयोध्या तिरुपति जैसा शहर बन जाएगा।”, उन्होंने कहा।

सिंह ने बताया कि अयोध्या अंतर-राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शीघ्र काम किया जाएगा ताकि अप्रैल 2020 की रामनवमी पर पहला विमान उड़ान भर सके। नए बस टर्मिनल के निर्माण के साथ-साथ अयोध्या रेलवे स्टेशन का भी विस्तार किया जाएगा।

अयोध्या और फैज़ाबाद के बीच 5 किलोमीटर लंबा फ्लाईओवर बनाया जाएगा। 10 रिसॉर्टों के निर्माण और पाँच सितारा होटला का कार्य दिसंबर से शुरू किया जाएगा, उन्होंने बताया।

मंदिर निर्माण के विषय में सिंह ने कहा कि राम मंदिर देश का सबसे बड़ा तीर्थस्थल होगा। “यदि 2,000 कारीगर प्रतिदिन आठ घंटा काम करेंगे तो ढाई वर्षों में मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा। अभी तक 65 प्रतिशत पत्थरों पर नक्काशी का कार्य किया जा चुका है।”, सिंह ने बताया।

मंदिर के 77 एकड़ के परिसर में कई धार्मिक संस्थान होंगे। राम मंदिर के आसपास गौशाला, धर्मशाला और वेदपाठशाला भी होगी। अयोध्या को आध्यात्मिक नगरी की तरह विकसित किया जाएगा और 10 श्री राम द्वार भी बनेंगे।