समाचार
“स्लीपर मॉड्यूल देश में हो रही हिंसा और प्रदर्शनों में हुए सक्रिय”- खुफिया विभाग

दिल्ली समेत दंगा प्रभावित क्षेत्रों में प्रदर्शन के दौरान स्लीपर मॉड्यूल सक्रिय हो चुके हैं। तोड़फोड़, आगजनी और दंगा भड़काने के लिए इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) और सिमी से जुड़े कट्टरपंथी पूरी तैयारी के साथ नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में शामिल हो चुके हैं। यह जानकारी खुफिया विभागों ने दिल्ली पुलिस के साथ साझा की है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इसकी पुष्टी दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने की है। उन्होंने बताया, “यह पता चला था कि गुरुवार को विरोध प्रदर्शन में बड़ी संख्या में नेवात, नूंह और उसके आसपास क्षेत्रों से करीब 25 हजार लोग गाड़ियों के जरिए दिल्ली में दाखिल होकर प्रदर्शन में हिंसा फैला सकते हैं।”

अधिकारी ने बताया, “इस वजह से पुलिस ने रात को ही गुरुग्राम बॉर्डर पर बैरिकेड्स लगाकर पुख्ता इंतजाम कर दिए थे। अतिरिक्त फोर्स के साथ ही सादे कपड़ों में पुलिसकर्मियों को गश्त पर लगाया था।

करीब 60 वॉट्सऐप, ट्विटर, फेसबुक खातों को बंद करने के लिए स्पेशल सेल ने सर्विस प्रदाता कंपनियों को पत्र लिखा है। प्रदर्शनों को ध्यान में रखते हुए सेल ने गुरुवार को दिल्ली के कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद कराईं। स्पेशल सेल ने इस संबंध में इंटरनेट और मोबाइल कंपनियों को एक दिन पहले ही सीक्रेट लेटर भेज था, जिसका खुलासा गुरुवार को हुआ।

गोपनीय पत्र में संवदेनशील क्षेत्रों में इंटरनेट और मोबाइल सेवाएँ बंद करनी थीं। यह पत्र एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया, जियो, महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड, बीएसएनएल को भेजा गया। पुलिस के मुताबिक, यह कदम खुफिया इनपुट के बाद उठाया गया।