समाचार
एलएसी पर सेना की आवाजाही और निर्माण कार्य की जासूसी कर रहा चीन- खुफिया एजेंसी

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लद्दाख, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में भारतीय खुफिया एजेंसियों को चीन द्वारा उठाए जा रहे कदमों का पता चला है। सीमा पर चीन की सेना द्वारा भारतीय सेना की आवाजाही और सीमा पर जारी निर्माण कार्य की जासूसी करके जानकारी एकत्र करने का प्रयास हो रहा है। अभी तक रक्षा मंत्रालय ने इसपर कुछ नहीं कहा है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय खुफिया एजेंसी कारकोरम दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ), पैंगोंग त्सो नदी के किनारे, सिक्किम और अरुणाचल में एलएसी के पास हर तरह की गतिविधियाँ एकत्रित कर रही है। चीन की गतिविधियों की जानकारी सेना के उच्च अधिकारियों और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े तमाम अधिकारियों को दे दी गई है।

पूर्वी लद्दाख में डीबीओ सेक्टर, पैंगोंग त्सो, चीनी कब्जे वाली अक्साई चिन के खुरनाक किले के साथ चुम्बी घाटी और अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर चीनी सैनिकों की गतिविधियों के कई साक्ष्य मिले हैं। नई सड़कें, अस्थायी घर और कुछ समय के लिए बनाई गईं बस्तियाँ एलएसी के पार चीन की सक्रिय गतिविधियों को दर्शाती है।

अब तक कई बार चीन के सैनिक सीमा के पास पकड़े जा चुके हैं। 8 जनवरी को पैंगोंग त्सो के दक्षिण में चीनी सैनिक की गिरफ्तारी हुई, जिसने रास्ता भटकने की बात कही। इसी तरह पूर्वी लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में 19 अक्टूबर को एक और चीनी सैनिक पकड़ा गया, जिसे 21 अक्टूबर को वापस कर दिया गया था।