समाचार
मुख्यमंत्री योगी ने मांगा 4 विभागों का लेखा-जोखा, कहा- “15 नवंबर तक सुधरे सड़कें”
आईएएनएस - 18th October 2019

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) से कहा, “वे सुनिश्चित करें कि सभी सड़कों की मरम्मत 15 नवंबर तक हो जाए।”

गुरुवार रात समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने पिछले दो वर्षों में पीडब्ल्यूडी, शहरी विकास और सिंचाई सहित चार विभागों द्वारा जारी निविदाओं का लेखा-जोखा मांगा है। उन्होंने कहा, “इनकी जवाबदेही तय हो और गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई की जानी चाहिए।”

योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव पीडब्ल्यूडी को उन जिलों के अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया, जहाँ बिना काम किए धनराशि वापस ले ली गई थी। उन्होंने कहा, “सड़कों की पैचिंग की औपचारिकता नहीं चलेगी। गुणवत्ता पर ध्यान दें। सभी गाँवों की सड़कों की मरम्मत सुनिश्चित हो।”

राज्यभर के दौरे में मुख्यमंत्री को सड़कों की खराब स्थिति के बारे में शिकायतें मिलीं। गुरुवार को वह वाराणसी में थे और लोगों ने प्रधानमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में फिर से सड़कों के गड्ढों की शिकायत की।

योगी ने राष्ट्रीय राजमार्गों की स्थिति की ओर इशारा करते हुए कहा, “जहाँ निर्माण कार्य चल रहा है, वहाँ यातायात के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है।” उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों को गोरखपुर-वाराणसी, मऊ-गोरखपुर और मऊ-वाराणसी सड़कों का निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया।

यूपी के मुख्य सचिव आरके तिवारी को अधिकारियों और ठेकेदारों पर ज़रूरी कार्रवाई करने के अलावा मरम्मत कार्य की समीक्षा और केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्रालय को इसके बारे में बताने के लिए कहा है।

मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव-ग्रामीण विकास को भी निर्देश दिया है कि सभी गाँवों की सड़कों की मरम्मत जल्द हो। शहरी और आवास विकास के अधिकारियों को कहा, “प्रदेश के 22 प्रतिशत नगरीय क्षेत्रों को अगले दो वर्ष में बढ़ाकर 30 प्रतिशत किया जाए।” उन्होंने आदेश दिया कि हरिद्वार में 2021 कुंभ के लिए हरिद्वार जाने वाली सड़क को चार-लेन बनाया जाए।