समाचार
चार विदेशी ग्राहकों के लिए इसरो नवंबर-दिसंबर में अंतरिक्ष में भेजेगा 14 छोटे उपग्रह

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) चार अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों के लिए अगले तीन ध्रुवीय (पोलार) उपग्रह प्रक्षेपण वाहनों (पीएसएलवी) के माध्यम से 14 छोटे उपग्रहों को प्रक्षेपित करेगा।

अंतरिक्ष उपकरण पीएसएलवी के सी-47, सी-48 और सी-49 मिशनों पर लॉन्च होंगे। यह नवंबर और दिसंबर 2019 में आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किए जाएँगे।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, द स्पेसफ्लाइट ने कहा, “अमेरिकी कंपनी अपने अंतरिक्ष यान को कक्षाओं में रखने की मांग करने वाली एजेंसियों के लिए ऐसी उड़ानों की व्यवस्था करती है। अगली तीन पीएसएलवी उड़ानों में इन अंतरिक्ष यानों को मामूली माध्यमिक पेलोड के रूप में समायोजित किया जाएगा।”

रिपोर्ट के अनुसार, इसरो ग्राहक के अंतरिक्ष यान को पीएसएलवी सी-47 के माध्यम से उनकी संबंधित कक्षाओं में नवंबर में भेजेगा, जहाँ भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी का कार्टोसैट-3 मुख्य अंतरिक्ष उपकरण होगा। अन्य विदेशी उपग्रहों को दिसंबर में बोर्ड पीएसएलवी-सी47 और पीएसएलवी-सी48 पर भेजा जाएगा।

स्पेसफेलाइट के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) कर्ट ब्लैक ने कहा, “पीएसएलवी हमारे लिए एक विश्वसनीय लॉन्च पार्टनर बना हुआ है। 2019 के अंत तक हमने पीएसएलवी पर 11 प्रक्षेपण किए। अब इस वाहन पर 100 से अधिक उपग्रहों को कक्षा में भेजा जाएगा।”

उन्होंने आगे कहा, “पीएसएलवी की स्थिरता ने हमारे ग्राहकों विशेष रूप से लॉन्च करने वाले नक्षत्रों की सहायता करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने अपने व्यवसायिक लक्ष्यों को भी प्राप्त किया है।”