समाचार
राज्यसभा में मोटर वाहन विधेयक पास, सड़क सुरक्षा के लिए किए गए कड़े प्रावधान

राज्यसभा में बुधवार को मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक 2019 को पारित कर दिया गया। इससे भारत के सड़क परिवहन क्षेत्र में बड़ा और सकारात्मक प्रभाव पड़ने के आसार हैं।

लाइवमिंट की रिपोर्ट के अनुसार, सड़क सुरक्षा और सड़क दुर्घटना की वजह से होने वाली मौतों को कम करने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर यह विधेयक उच्च सदन में 108-13 के बहुमत से पारित किया गया। इसे तीन सरकारी संशोधनों के साथ पारित किया गया था और अब यह लोकसभा जाएगा, जिसने पिछले हफ्ते ही विधेयक पारित किया था।

इस बिल को पहली बार लोकसभा में अगस्त 2016 में पेश किया गया था और अप्रैल 2017 में इसे निचले सदन ने पारित किया था। बाद में इस विधेयक को राज्यसभा में बार-बार ठुकरा दिया गया, जहाँ सत्तारूढ़ का अपना एक बहुमत नहीं था। बाद में 16वीं लोकसभा के विघटन के साथ विधेयक भंग हो गया था।

प्रस्तावित कानून के तहत शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 10,000 रुपये, तेज गाड़ी चलाने पर 1,000 रुपये, बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाने पर 5,000 रुपये और किसी आपातकालीन वाहन को पास न देने पर 10,000 रुपये के अर्थदंड का सुझाव दिया गया है।

इसके अलावा, एक अधिसूचना के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा बोर्ड बनाने का भी प्रावधान है। विधेयक में ठेकेदार की सड़क की स्थितियों के लिए जिम्मेदार तय की गई है। विधेयक में सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति की मदद करने वाले के उत्पीड़न को रोकने के नियम बनाए गए हैं। इसमें गोल्डन ऑर के दौरान सड़क दुर्घटना में घायल होने वालों के लिए कैशलेस उपचार की योजना भी है।