समाचार
भारत के 1 प्रतिशत अमीरों के पास 95.3 करोड़ लोगों की तुलना में चार गुना अधिक संपत्ति

भारत के सबसे अमीर 1 प्रतिशत लोगों के पास देश की कुल आबादी के 70 प्रतिशत से नीचे रहने वाले 95.3 करोड़ लोगों की तुलना में चार गुना अधिक संपत्ति है। यह जानकारी एक नए अध्ययन के बाद सामने आई है।

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, टाइम टु केयर अध्ययन को जारी करते हुए बताया गया कि भारत में सभी अरबपतियों की कुल संपत्ति देश के पूरे वर्ष के बजट से अधिक है।

ऑक्सफैम की तरफ से वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की 50वीं वार्षिक बैठक में यह अध्ययन जारी किया गया। समूह ने अध्ययन को सार्वजनिक करते हुए इस पर भी जोर दिया कि दुनिया के 2,153 अरबपतियों के पास 4.6 अरब लोगों या दुनिया की 60 फीसदी आबादी से ज्यादा दौलत है।

ऑक्सफेम इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अमिताभ बहर ने कहा, “वैश्विक असमानता के मुद्दे पर तेजी से बढ़ने के कारण अमीर और गरीब के बीच का फर्क असमानता हटाने वाली नीतियों के बिना कम नहीं होगा। बहुत ही कम ऐसी सरकारें हैं, जो इस फर्क को कम करने की दिशा में काम कर रही हैं।”

भारत के संबंध में अधिक जानकारी देते हुए अध्ययन में कहा गया कि 63 भारतीय अरबपतियों के पास वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए देश के कुल केंद्रीय बजट से अधिक संपत्ति थी, जो 24,42,200 करोड़ रुपये थी।

बहर ने कहा, “हमारी चरमराती हुईं अर्थव्यवस्थाएँ आम लोगों के हक को मारकर अरबपतियों और बड़े व्यापारियों की जेब भर रही हैं। ऐसे में कोई आश्चर्य नहीं है कि लोग अब यह सवाल करने लगे हैं कि अरबपति होने भी चाहिए या नहीं।”