समाचार
भारत की जीडीपी चौथी तिमाही में 1.6 प्रतिशत बढ़ी पर पूरे वित्त वर्ष में 7.6% संकुचित हुई

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा सोमवार (31 मई) को जारी आँकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2021 की जनवरी-मार्च तिमाही में भारत की अर्थव्यवस्था 1.6 प्रतिशत बढ़ी लेकिन पूरे वित्तीय वर्ष में 7.3 प्रतिशत संकुचित हो गई।

एनएसओ ने कहा, “2020-21 की चौथी तिमाही में स्थिर (2011-12) कीमतों पर जीडीपी का अनुमान 38.96 करोड़ रुपये है, जबकि 2019-20 की चौथी तिमाही में 38.33 लाख करोड़ रुपये रहा था। यह 1.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।”

अक्टूबर से दिसंबर तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में 0.4 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई, जो सुधार के शुरुआती संकेत दिखा रही है।

29 जनवरी 2021 को जारी किया गया कि वर्ष 2020-21 में स्थिर (2011-12) कीमतों पर वास्तविक जीडीपी अब वर्ष 2019 की जीडीपी के पहले संशोधित अनुमान 145.69 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 135.13 लाख करोड़ रुपये के स्तर को प्राप्त कर सकती है। 2020-21 में जीडीपी में वृद्धि 2019-20 के 4.0 प्रतिशत की तुलना में घटकर -7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान है।