समाचार
यूएन को भारतीय मंच ने पाकिस्तान में शियाओं पर हो रही क्रूरता के विरुद्ध याचिका भेजी

राजस्थान के उदयपुर में स्थित उसाना फाउंडेशन नामक एक भारतीय थिंक टैंक ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के महासचिव और विश्व निकाय के अन्य शीर्ष अधिकारियों को पाकिस्तान में धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यकों के खिलाफ राज्य-स्वीकृत हिंसा के बारे में एक याचिका भेजी है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, थिंक टैंक ने अपनी याचिका में पाकिस्तान के शिया समुदाय पर अत्याचार और उनके मौलिक अधिकारों के उल्लंघन का उल्लेख किया है। उसने पाकिस्तान के सुन्नी समुदाय द्वारा हाल ही में हुए चरमपंथी विरोध मार्च का संदर्भ दिया है, जिसमें ईशनिंदा के आरोप में शियाओं को फांसी देने की मांग की गई थी।

22 सितंबर को भेजी गई याचिका में यह मुद्दा उठाया गया था। इसके बाद उसाना फाउंडेशन ने 24 सितंबर को एक और याचिका भेजी थी, जिसमें भरातीय केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवादी संगठनों द्वारा निर्दोष नागरिकों और राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्याओं का मुद्दा उठाया गया था।

यूएन को भेजी याचिका में थिंक टैंक ने पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा बडगाम ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह और श्रीनगर के वकील व सामाजिक बाबर कादरी की नृशंस हत्या का उल्लेख किया गया था।