समाचार
रेलवे ने राम मंदिर की तर्ज पर आधुनिक अयोध्या स्टेशन के निर्माण की योजना बनाई

आने वाले महीनों में मंदिर जाने से पूर्व श्रद्धालु जब अयोध्या पहुँचेंगे तो उन्हें भव्य राम मंदिर की झलक अलग ही नज़र आएगी। भारतीय रेलवे ने अयोध्या रेलवे स्टेशन का रूप बदलकर राम मंदिर के प्रतिरूप के रूप में इसे विकसित करने का निर्णय लिया है।

आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित नए स्टेशन का पहला चरण जून 2021 तक पूरा हो जाएगा। स्टेशन की मरम्मत विशेषमहत्व रखती है क्योंकि मंदिर का निर्माण 2023-24 तक पूरा होने की अपेक्षा है।

मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी ने बताया, “इसे आधुनिक बनाते हुए स्टेशन को एक नया रूप प्रदान करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। स्टेशन पर श्रद्धालुओं और पर्यटकों को आधुनिक सुविधाएँ प्रदान करने के लिए ये कार्य हो रहे हैं।”

रेलवे ने पहले नए स्टेशन भवन के लिए 80 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी थी लेकिन अब यह राशि बढ़ाकर 104.77 करोड़ रुपये कर दी गई है। उत्तर रेलवे लखनऊ के वरिष्ठ मंडल वाणिज्यिक प्रबंधक जगत शुक्ला के एक बयान के अनुसार, रेलवे के आरआईटीईएस एंटरप्राइज द्वारा स्टेशन भवन का निर्माण किया जा रहा है। निर्माण दो चरणों में होगा। दूसरे चरण में एक नए स्टेशन भवन का निर्माण किया जाएगा और अन्य सुविधाओं का विकास किया जाएगा।

इन सुविधाओं के तहत स्टेशन के आंतरिक और बाहरी परिसर के नवीनीकरण के लिए काम चल रहा है जैसे टिकट काउंटरों की संख्या का विस्तार, वेटिंग रूम का विस्तार, तीन वातानुकूलित वेटिंग रूम का निर्माण, 17 बेड वाली पुरुष डॉरमेट्री,10 बेड वाली महिला डॉरमेट्री।

इसके अतिरिक्त फुट ओवर ब्रिज, फूड प्लाज़ा, दुकानें, अतिरिक्त शौचालय और अन्य वांछित सुविधाओं के निर्माण का काम भी चल रहा है। एक पर्यटक केंद्र, टैक्सी बूथ, वीआईपी लाउंज, ऑडिटोरियम और एक विशेष अतिथि गृह भी परिसर में बनेगा।