समाचार
कबाड़ बेचकर 10 साल में भारतीय रेलवे ने कमाए 35,000 करोड़ रुपये- आरटीआई
आईएएनएस - 10th October 2019

भारतीय रेलवे ने बीते 10 साल में पुराना कबाड़ बेचकर 35,073 करोड़ रुपये की कमाई की है। रेलवे ने यह कमाई पुराने कोच, वैगन और रेल की पटरियों काे बेचकर की है। सूचना के अधिकार के तहत पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में रेलवे ने बताया कि यह राशि पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के वार्षिक बजट से भी ज्यादा है।

2018-19 के लिए सिक्किम का सालाना बजट लगभग 7000 करोड़ रुपये है, मिजोरम का बजट 9,000 करोड़ रुपये और मणिपुर का बजट 13,000 करोड़ रुपये है।

मध्य प्रदेश के मालवा निमाड़ क्षेत्र से आने वाले वरिष्ठ पत्रकार और आरटीआई कार्यकर्ता जितेंद्र सुराना द्वारा लगाई गई याचिका में रेलवे ने बताया कि बीते 2009-14 की तुलना में 2014-19 कबाड़ की बिक्री कम हुई है।

रेलवे द्वारा सूचना का ब्योरा देते हुए बताया गया कि साल 2011-12 में सबसे ज्यादा कबाड़ बेचा गया। इस साल रेलवे को कबाड़ बेचने से 4,409 करोड़ रुपए का फायदा हुआ।

वहीं, बेचे गए कबाड़ में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी रेलवे पटरियों की है। जानकारी के अनुसार, 2009-13 के बीच पटरियों का कबाड़ बेचकर रेलवे ने 6,885 करोड़ रुपये की आमदनी हुई। जबकि साल 2015-19 के बीच में 5,559 करोड़ रुपये की कमाई पटरियों का कबाड़ बेचकर हुई।