समाचार
भारतीय राफेल विमानों ने चीन से चल रहे तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में भरीं उड़ानें

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ चल रहे तनाव के बीच भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के सभी नए डसॉल्ट राफेल लड़ाकू जेट विमानों ने लद्दाख क्षेत्र के ऊपर आसमान में उड़ान भरनी शुरू कर दी है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, राफेल विमानों को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस के रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ली की उपस्थिति में 10 सितंबर को आधिकारिक तौर पर सेवा में शामिल किया गया था। हाल के दिनों में पाँच ओमनी-रोल फाइटर जेट्स ने इस क्षेत्र में पहले से ही कुछ जानकारियाँ एकत्रित करने के लिए संक्षिप्त उड़ानें भरी थीं।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अंबाला में वायुसेना के बेस में प्रेरण समारोह के दौरान एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा था, “देश में ये सही समय पर आए हैं और बेहद अच्छे हैं।” उन्होंने यह भी कहा था कि सुरक्षा स्थिति को देखते हुए राफेल लड़ाकू विमान इससे अधिक उपयुक्त वक्त पर नहीं आ सकते थे।

इस बीच यह गौर किया जाना चाहिए कि भले ही राफेल को 10 सितंबर को सेवा में शामिल किया गया था लेकिन वे 29 जुलाई को पहले ही भारत आ गए थे। तब से कई दिन और रात में जेट विमानों को विभिन्न क्षेत्रों में उड़ाया गया था, जिसमें हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्र भी शामिल थे।