समाचार
भारतीय नौसेना का यूएस के विमानवाहक पोत पर युद्धाभ्यास से चीन को रणनीतिक संदेश

भारतीय नौसेना संयुक्त राज्य के विमानवाहक पोत यूएसएस निमित्ज़ के साथ अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह के पास एक संयुक्त अभ्यास करने के लिए तैयार है। यह अभ्यास चीन को एक मजबूत रणनीतिक संदेश भेजने के मकसद से किया जा रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, दोनों नौसेनाएँ यूएसएस निमित्ज़ के साथ एक पासिंग एक्सरसाइज करेंगी। इसने शनिवार (18 जुलाई) को मलक्का जलडमरूमध्य पार करने के बाद हिंद महासागर में प्रवेश किया और दक्षिण चीन सागर में एक बड़ा युद्धाभ्यास किया था।

पूर्वी नौसेना के बेड़े के कमांडर रियर एडमिरल संजय वात्स्यायन के नेतृत्व में भारत-अमेरिका के संयुक्त अभ्यास में विभिन्न भारतीय युद्धपोत शामिल होंगे। इनमें विध्वंसक, पनडुब्बी, फ्रिगेट और गश्ती विमान शामिल हैं।

यह अभ्यास नौसैनिक क्षेत्र में होगा, जो चीन के महत्वपूर्ण समुद्री व्यापार मार्गों के लिए जाना जाता है। भारतीय नौसेना द्वारा विकास तब आया है, जब भारतीय सशस्त्र बल का वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ विवाद शुरू हुआ।