समाचार
भारतीय नौसेना के मिग-29के चीन से तनाव के बीच उत्तरी क्षेत्र में तैनात किए जाएँगे

भारतीय नौसेना के पी-8आई निगरानी विमान पूर्वी लद्दाख सेक्टर पर उड़ान भर रहे हैं। अब नौसेना के समुद्री लड़ाकू जेट मिग-29के को उत्तरी क्षेत्र में संचालन के लिए तैनात किया जाएगा।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के ठिकानों पर नौसैनिक लड़ाकू विमानों की तैनाती प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीनों सेनाओं के बीच सहयोग बढ़ाने के निर्देशों और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के उत्तरी या पश्चिमी सीमा पर वायुसेना के साथ समुद्री युद्धक विमानों की तैनाती की संभावना के अनुरूप है।

सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया, “उत्तरी क्षेत्र में वायुसेना के बेस पर मिग-29के विमानों को तैनात करने की योजना है। इनका उपयोग वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में परिचालन उड़ान भरने के लिए किया जा सकता है।

नौसेना के पास 40 से अधिक मिग-29के लड़ाकू जेट विमानों का बेड़ा है, जो विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर तैनात हैं। गोवा में नौसेना के लड़ाकू अड्डे आईएनएस हंसा से नियमित उड़ान भरते हैं।

चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ चल रहे विवाद के बीच भारतीय नौसेना एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। उसके विमानों का उपयोग एलएसी पर निगरानी के लिए किया जा रहा है, ताकि चीनी गतिविधियों का पता लगाया जा सके। डोकलाम संकट के दौरान भी निगरानी विमानों का बड़े पैमाने पर उपयोग किया गया था।