समाचार
सरकार का तुर्की को कड़ा संदेश- भारतीय पर्यटकों को सावधानी बरतने की दी नसीहत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार ने तुर्की जाने वाले भारतीय पर्यटकों को चेतावनी जारी की है। उसने तुर्की के आसपास के हालातों को लेकर चिंता जताते हुए वहाँ जाने पर सावधानी बरतने की नसीहत दी है। कहा जा रहा है कि इसके जरिए कश्मीर मुद्दे को उकसाने वाली तुर्की सरकार को भारत ने फिर से एक बड़ा कूटनीतिक संदेश दे दिया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, तुर्की की अर्थव्यवस्था में पर्यटन की बड़ी भूमिका है। वहाँ जाने वाले भारतीयों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जनवरी से जुलाई 2019 के बीच 1.30 लाख भारतीयों ने वहाँ की यात्रा की है। यह आँकड़े पिछले वर्ष के शुरुआती सात महीनों के मुकाबले 56 प्रतिशत अधिक हैं।

रिपोर्टों की मानें तो 2017 के मुकाबले तुर्की जाने वाले वाले भारतीयों की संख्या छह गुना बढ़ी है। तुर्की सरकार भारतीय पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए तरह-तरह के खास कार्यक्रम चलाती है।

सूत्रों के मुताबिक विदेश मंत्रालय का कहना है, “तुर्की के साथ रिश्ते पुराने ज़रूर हैं लेकिन यह उतने गहरे नहीं हैं। दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय कारोबार करीब 8 अरब डॉलर का है, जो खास नहीं है। फिर भी तुर्की के भारत के प्रति रवैये को देखते हुए अहतियात बरतना चाहिए।”

बता दें कि तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैयब एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ दिया था। कुछ ऐसा ही राग मलेशिया ने भी अलापा था। इसके बाद भारत ने मलेशिया से ताड़ के तेल के आयात को कम करने की प्रक्रिया जारी कर दी है।