समाचार
रक्षा मंत्रालय का 4960 मिलान 2टी टैंक-रोधी निर्देशित मिसाइल के लिए बीडीएल से अनुबंध

रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया को बड़ा बढ़ावा देने के लिए रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार (19 मार्च) को भारतीय सेना को मिलान-2टी टैंक-रोधी निर्देशित मिसाइल (एटीजीएम) की आपूर्ति के लिए सरकार के स्वामित्व वाली भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (बीडीएल) के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।

मंत्रालय ने शुक्रवार (19 मार्च) को कहा, “रक्षा मंत्रालय के अधिग्रहण विंग ने नई दिल्ली में 1,188 करोड़ रुपये की लागत से भारतीय सेना को 4,960 मिलान-2टी एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल की आपूर्ति के लिए डिफेंस पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग (डीपीएसयू) के भारत डायनामिक्स लिमिटेड के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।”

यह अनुबंध दोबारा हुआ है। इससे पूर्व, 8 मार्च 2016 को बीडीएल के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे।

मंत्रालय ने कहा, “मिलान-2टी 1,850 मीटर की सीमा के साथ एक अग्रगामी मुखास्त्र एटीजीएम है। इसे बीडीएल द्वारा फ्रांस के एमबीडीए मिसाइल सिस्टम से लाइसेंस के तहत बनाया जाता है। मिलान-2टी मिसाइल को भूमि और वाहन-आधारित लॉन्चर से दागा जा सकता है। इसे आक्रामक और रक्षात्मक दोनों कार्यों के लिए टैंक-रोधी भूमिका में तैनात किया जा सकता है।”

मंत्रालय के अनुसार, यह परियोजना रक्षा उद्योग और रक्षा क्षेत्र में अपनी क्षमता दिखाने का एक बड़ा मौका है। साथ ही आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में एक अहम कदम है।