समाचार
बोफोर्स तोपों की सीमा पर तैनाती की तैयारी शुरू, मोदी सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ लगातार बढ़ते तनाव के बीच किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए भारतीय सेना ने अब बोफोर्स होवित्जर तोपों को तैयार करना शुरू कर दिया है। सेना के इंजीनियर लद्दाख में 155 एमएम की इन तोपों की सर्विसिंग कर रहे हैं। उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्री मोदी की अगुआई वाली सरकार ने गुरुवार को इस मसले को लेकर सर्वदलीय बैठक बुलाई है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों ने कहा, “इन तोपों की समय-समय पर रखरखाव और सर्विसिंग की ज़रूरत होती है। इसके लिए वहाँ तकनीशियनों को तैनात किया गया है। सर्विसिंग का काम पूरा होने के बाद इन्हें लद्दाख में तैनात किया जाएगा।” इंजीनियरों का कहना है कि कुछ ही दिनों में ये तोपें दुश्मनों पर हमले के लिए तैयार होंगी।

बोफोर्स होवित्जर तोपों को आर्टिलरी रेजिमेंट में 1980 के दशक के मध्य में शामिल किया गया था। ये तोपें निम्न और उच्च दोनों कोणों से फायरिंग करने में सक्षम हैं। इन तोपों ने जम्मू-कश्मीर के द्रास में ऑपरेशन विजय की लड़ाइयों को जीतने में बड़ी भूमिका निभाई थी।

वहीं, संसद सत्र में सरकार ने चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर बयान दिया लेकिन विपक्ष में बैठे कांग्रेसी नेताओं ने इस पर विस्तार से चर्चा की मांग की। इसको लेकर लोकसभा में विरोध भी जताया गया। अब सरकार की ओर से चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाने पर जोर दिया गया है।

इससे पूर्व, लोकसभा में बुधवार को राजनाथ सिंह ने कहा था, “लद्दाख में स्थिति गंभीर है और चीन एलएसी की मौजूदा स्थिति को बदलने की कोशिश कर रहा है। अप्रैल से हम तनाव को वार्ता के ज़रिए सुलझाने की कोशिश में जुटे हैं लेकिन अगर परिस्थितियाँ बदलीं तो भारतीय सेना पूरी तरह तैयार है।”