समाचार
भारत और ऑस्ट्रेलिया के मध्य दिसंबर में फसल व्यापार समझौता होने की संभावना

द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाते हुए भारत और ऑस्ट्रेलिया के मध्य व्यापक आर्थिक सहयोग समझौते (सीईसीए) के हिस्से के रूप में दिसंबर में फसल व्यापार समझौता होने की संभावना है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, शुरुआती फसल समझौते में उन वस्तुओं के शुल्क में कटौती सम्मिलित होगी, जो द्विपक्षीय व्यापार का करीब आधा हिस्सा हैं। इसमें सेवा क्षेत्र के लिए नियमों में ढील भी सम्मिलित होगी। यह विकास इसलिए भी महत्वपूर्ण होगा क्योंकि सीईसीए की वार्ता एक दशक पहले शुरू हुई थी।

जब यह व्यापार समझौता होगा तो यह व्यापार समझौतों के एक समूह में पहला होगा, जिसे भारत संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), यूनाइटेड किंगडम (यूके), यूरोपीय संघ (ईयू) और कनाडा जैसे देशों के साथ बनाना चाहता है।

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष डैन तेहान ने हाल ही में एक बैठक के दौरान दिसंबर के लक्ष्य पर सहमति व्यक्त की थी। कहा जाता है कि गोयल ने अगेती फसल योजना के समग्र दायरे को अंतिम रूप देने के लिए मध्य सितंबर की समय सीमा तय की थी।

यह भी गौर किया जाना चाहिए कि जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत भी एक लचीला आपूर्ति शृंखला बनाने की पहल पर काम कर रहा है, जो चीन पर निर्भरता को कम करने में सहायता करेगा।