समाचार
स्पाइस-2000 बमों के उन्नत संस्करण को भारतीय वायुसेना कर रही है खरीदने की तैयारी

भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक के समय उपयोग किए गए स्पाइस-2000 बमों के उन्नत संस्करण को भारत खरीदने की तैयारी कर रहा है। चीन के साथ तनाव के बीच भारतीय वायुसेना आपातकालीन वित्तीय शक्तियों का प्रयोग कर इनकी खरीद की योजना बना रही है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, स्पाइस-2000 बम 70 किलोमीटर दूर तक लक्ष्य को तबाह कर सकता है। इसका नया संस्करण बंकर्स और मजबूत शेल्टर्स की भी धज्जियाँ उड़ा सकता है।

सरकारी सूत्रों ने बताया, “भारतीय वायु सेना के पास पहले से ही स्पाइस -2000 बम हैं। आपातकालीन खरीद शक्तियों के तहत स्पाइस -2000 बमों जैसे अधिक स्टैंड-ऑफ हथियार हासिल करने की योजना है।”

बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने सेनाओं को 500 करोड़ रुपये तक का कोई भी हथियार खरीदने की छूट दी।

इस स्वतंत्रता के बाद वायुसेना को इसका सबसे अधिक फायदा मिला, जिसने बालाकोट के बाद स्पाइस-2000 एयर टू ग्राउंड मिसाइल, स्ट्रम अटाका एयर टू ग्राउंड मिसाइल समेत कई रक्षा उपकरणों की खरादारी की। भारतीय सेना ने इजरायली एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल के साथ ही अमेरिका से हथियारों की खरीद की।