समाचार
भारत यूएस से 100 जीई 404 इंजन प्राप्त करने को 70 करोड़ डॉलर के समझौते के निकट

अमेरिका के साथ रक्षा संबंधों को और गहरा करने की दिशा में आगे बढ़ते हुए भारत यूएस आधारित जनरल इलेक्ट्रिक (जीई) से 70 करोड़ डॉलर के 100 लड़ाकू विमानों के इंजनों के अधिग्रहण के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करने को तैयार है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, प्राप्त होने वाले जीई 404 इंजन का उपयोग स्वदेश में विकसित हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस के मार्क-1ए संस्करण को चलाने के लिए किया जाएगा। उक्त इंजन का उपयोग पूर्व से ही एलसीए तेजस के मार्क-1 संस्करण को चलाने के लिए किया जा रहा है, जो भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के साथ सक्रिय हैं।

इससे पूर्व, फरवरी में भारत ने औपचारिक रूप से स्वदेशी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के साथ स्वदेशी एलसीए तेजस मार्क-1ए लड़ाकू विमान हासिल करने के लिए 48,000 करोड़ रुपये के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे।

कहा जाता है कि भारत और अमेरिका ने वार्ता करीब-करीब पूरी कर ली है और आपूर्ति से संबंधित सभी मुद्दों को सुलझा लिया है।

एक बार हस्ताक्षर होने के बाद यह समझौता फरवरी 2020 के बाद से सबसे बड़े भारत-अमेरिका रक्षा सौदे को चिह्नित करेगा, जब भारत ने तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान एमएच-60 सिकोरस्की रोमियो मल्टी-रोल हेलीकॉप्टर और अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर खरीदने का आदेश दिया था।