समाचार
भारत लोकसभा चुनाव के बाद ईरान से तेल आयात करने पर फैसला लेगा

भारत ने मंगलवार को कहा, “देश में चल रहे लोकसभा चुनाव के बाद वह ईरान से तेल खरीदे जाने पर फैसला लेगा। यह निर्णय देश के वाणिज्यिक विचारों, ऊर्जा सुरक्षा और आर्थिक हितों को ध्यान में रखते हुए लिया जाएगा।”

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सरकार के इस संदेश से ईरानी विदेश मंत्री जावेद ज़ारिफ को अवगत करवाया। वह संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा दो मई को ईरान से तेल खरीदने के लिए दी गई छह महीने की छूट खत्म होने के बाद भारत यात्रा पर आए हैं। ईरानी विदेश मंत्री भारत को तेल खरीद जारी करने के लिए मनाने आए थे।

अमेरिका के साथ लगातार बढ़ते तनाव के बीच ईरान अपनी संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) को पुनर्जीवित करने और द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करने की माँग कर रहा है। उसने बीते दिनों रूस, चीन, तुर्कमेनिस्तान और इराक से भी हालिया हालात पर चर्चा की है।

ईराक और सउदी अरब के बाद भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा कच्चे तेल का आयातक देश है। वह अपनी जरूरतों का 80 प्रतिशत तेल आयात करता है।

अमेरिका ने भारत व अन्य देशों से कहा, “अमेरिकी प्रतिबंधों से बचने के लिए 4 नवंबर तक ईरान से तेल का आयात बिल्कुल बंद कर दें।” इससे पहले अमेरिका ने भारत सहित 8 देशों को ईरान से तेल आयात करने की 6 महीने की छूट दी थी।