समाचार
पाकिस्तान से वापस लिया गया सर्वाधिक सहायता प्राप्त करने वाले देश का दर्जा

कल (14 फरवरी) को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए भीषण हमले जिसमें कम से कम 37 सैनिकों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए हैं, पर चर्चा के लिए आयोजित सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक समाप्त हो चुकी है।

इसके बाद केंद्र ने पाकिस्तान सेसबसे अनुग्रहित राष्ट्रका दर्जा वापस लेने का फैसला लिया, इकोनॉमिक टाइम्स  की रिपोर्ट ने बताया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मंत्रियों की साथ बैठक की शुरुआत शहीद सैनिकों की याद में दो मिनट का मौन रखकर की गई।

बाद में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने बैठक की जानकारी दी। पाकिस्तान से एमएफएन का दर्जा वापस लेने के फैसले के अलावा उन्होंने यह भी घोषणा की कि विदेश मंत्रालय पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग करने के लिए कदम उठाएगा।

पुलवामा जिले में कल एक आत्मघाती हमलावर ने एक वाहनजनित तात्कालिक विस्फोटक उपकरण का उपयोग करके हमला किया था जो कि कश्मीर उग्रवाद में काम ही उपयोग हुआ है।

हमलावर कुख्यात आतंकी संगठन जैशमोहम्मद का सदस्य था जिसका लंबे समय तक पाकिस्तानी द्वारा पोषण किया जाता रहा है और पाकिस्तान ने जैशमोहम्मद कि प्रमुख मसूद अजहर को भी सुरक्षित पनाहगाह दी है। जैशमोहम्मद को चीन द्वारा अंतरराष्ट्रीय दबाव से आश्रय दिया जा रहा है।