समाचार
नितिन गडकरी का दावा, “शीर्ष ईवी विनिर्माता बनेगा भारत, लिथियम बैटरी का उत्पादन”

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया है कि भारत इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) का दुनिया में सबसे बड़ा विनिर्माण केंद्र बनने के लिए तैयार है।

प्रत्यक्ष है कि लिथियम-आयन बैटरी ईवी के लिए सबसे अभिन्न घटकों में से एक है। ऐसे में केंद्रीय मंत्री ने खुलासा किया कि भारत इस वर्ष के अंत से घरेलू स्तर पर इसका समान उत्पादन करना शुरू कर देगा।

अब तक पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन पर चलने वाले आंतरिक दहन इंजन (आईसीई) वाहनों की तुलना में ईवी एक महंगा विकल्प है। हालाँकि, नितिन गडकरी ने पुष्टि की कि ईवी की कीमतें आने वाले दो वर्षों में काफी कम हो जाएँगी और इसकी लागत पेट्रोल या डीजल कारों के बराबर ही होगी।

हिंदुस्तान टाइम्स के हवाले से  वरिष्ठ मंत्री ने कहा, “भारत इलेक्ट्रिक वाहन बनाने की दिशा में तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। समय के साथ हम दुनिया में नंबर एक इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता हो जाएँगे। फिलहाल, सभी प्रतिष्ठित ब्रांड भारत में मौजूद हैं।”

उन्होंने कहा, “भारत में हरित शक्ति बनाने की जबरदस्त क्षमता है। मुझे विश्वास है कि हम 6 महीने के अंदर में भारत में 100 प्रतिशत लिथियम-आयन बैटरी बनाने की स्थिति में होंगे। दरअसल, लिथियम की हमारे पास कोई कमी नहीं है।”