समाचार
अयोध्या निर्णय के दुष्प्रचार पर भारत ने यूएन में पाकिस्तान को लगाई फटकार

पाकिस्तान द्वारा अयोध्या भूमि विवाद पर आए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का लगातार दुष्प्रचार करने पर भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में गुरुवार को उसे जमकर फटकार लगाई।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, यूएनएचआरसी के 12वें सत्र में पड़ोसी देश के दिए गए बयान पर जवाब देते हुए भारतीय राजनयिक विमर्श आर्यन ने कहा, “पाकिस्तान में धार्मिक, जातीय, सांप्रदायिक और भाषाई अल्पसंख्यक तथाकथित ईशनिंदा कानून के कारण बुनियादी मानवाधिकारों के गंभीर उल्लंघन का शिकार बने हैं।”

उन्होंने कहा, “भारत एक मजबूत लोकतंत्र है। यहाँ धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों समेत सभी नागरिकों के हितों की सुरक्षा के लिए भावी संवैधानिक व्यवस्था है। भारत अपने न्यायिक फैसलों के संदर्भ में की गई पाकिस्तान की टिप्पणी को पूरी तरह खारिज करता है।”

आर्यन ने आगे कहा, “दुनिया को ऐसे देश से अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों के बारे में सीखने की जरूरत नहीं है, जिसके अपने नागरिकों ने कभी भी सच्चे लोकतंत्र का अनुभव ना किया हो।”

भारत ने पाकिस्तान की इमरान सरकार से अपील की, “वह अपने देश के लोगों की बेहतरी के लिए काम करें, ना कि एक देश और उसके लोगों के खिलाफ दुष्प्रचार में अपनी ऊर्जा बर्बाद करें। अयोध्या मामला पूरी तरह से निजी है। इसमें किसी को भी हस्तक्षेप करने की ज़रूरत नहीं है।” बता दें कि दो सप्ताह के भीतर यह दूसरा मौका है, जब भारत ने इस निर्णय पर पाकिस्तान को बेवजह टिप्पणी ना करने की हिदायत दी है।