समाचार
“आतंकवाद न हो राज्य की नीति”: सऊदी अरब-भारत साथ, 1 खरब डॉलर का निवेश भी

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने बुधवार (20 फरवरी) को नई दिल्ली में अपने भ्रमण के साथ भारत के कई क्षेत्रों में 1 खरब डॉलर डॉलर निवेश करने की बात कही। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में सलमान ने कहा कि उनका देश भारत में कई अवसरों को देखता है और इसलिए वे कई क्षेत्रों में 1 खरब डॉलर का निवेश करेंगे। उन्हेंने यह भी बताया कि 2016 में गल्फ देश में प्रधानमंत्री मोदी के भ्रमण के बाद सऊदी अरब 44 अरब डॉलर का निवेश कर चुका है।

क्राउन प्रिंस ने सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के क्षेत्र में भारत के कौशल की सराहना की और कहा कि इस क्षेत्र में भी सऊदी ने काफी निवेश किया है। “हम समझते हैं कि यहाँ 1 खरब डॉलर से अधिक के निवेश का अवसर है। हम दोनों देशों के लाभ को लिए निवेश व आर्थिक संबंधों को सुदृढ़ करना चाहते हैं।”, सलमान ने कहा।

विदेश सचिव टीएस त्रिमूर्ति ने बाद में पत्रकारों को बताया कि यह निवेश ऊर्जा, पेट्रोकेमिकल और विनिर्माण जैसे क्षेत्रों में होगा। पाकिस्तान का नाम न लेते हुए दोनों देशों ने संयुक्त रूप से ऐसी चर्चाओं के लिए अनुकूल वातावरण बनाने की बात कही जहाँ वे “संयुक्त राष्ट्र से आतंवादी संस्थाओं को घोषित करवा सकें” और “राज्य नीति के रूप में आतंकवाद को छोड़ने” की बात कह सकें।