समाचार
तीन और राफेल भारत पहुँचे, आईएएफ हाशिमारा में दूसरे स्क्वाड्रन के संचालन को तैयार

तीन लड़ाकू विमानों के साथ राफेल का छठा बैच शुक्रवार (28 मई) को भारत में उतरा। भारतीय वायु सेना (आईएएफ) जल्द ही पश्चिम बंगाल में स्थित हाशिमारा में इन विमानों के दूसरे स्क्वाड्रन के उड़ान संचालन को शुरू करने के लिए तैयार है।

राफेल जेट के इस छठे जत्थे के आने का अर्थ है कि देश को अब जितने विमानों का ऑर्डर मिला था, उसका दो-तिहाई हिस्सा मिल गया है। इससे पूर्व, चार राफेल विमानों की पाँचवीं खेप 22 अप्रैल को भारत पहुँचने के लिए मेरिग्नैक एयर बेस से कुल 8,000 किलोमीटर की दूरी तय कर चुकी थी।

भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस को ऐसे 36 लड़ाकू विमानों के ऑर्डर दिए थे। माना जाता है कि दो इंजन वाले राफेल जेट भारतीय वायुसेना की क्षमताओं को व्यापक रूप से बढ़ा देंगे। यह कई अभियानों को कुशलतापूर्वक संचालित कर सकता है जैसे भूमि और समुद्र पर हमले, निगरानी, ​​​​परमाणु हमले की रोकथाम और वायु रक्षा और श्रेष्ठता।

द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, वायु सेना इन राफेल के माध्यम से पाकिस्तान और चीन के लड़ाकू विमानों पर लाभ प्राप्त करने के लिए तैयार है, जो मज़बूती से लंबी दूरी की मेट्योर हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों को ले जा सकता है।