समाचार
नीति आयोग राष्ट्रीय डाटा, विश्लेषण के लिए बना रहा एक मंच, होंगे सभी सरकारी आँकड़े

नीति आयोग ने घोषणा की है कि वह सभी सरकारी आँकड़ों को विभिन्न हितधारकों हेतु सुलभ बनाने के लिए एक राष्ट्रीय डाटा और विश्लेषण मंच (एनडीएपी) विकसित करेगा।

इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार की घोषणा में बताया गया कि एनडीएपी यह सुनिश्चित करेगा कि आंँकड़े “आश्वस्त, सुसंगत, समान विश्वसनीय” हों।

कुमार ने कहा कि डिजिटल युग में यह ज़रूरी है कि भारत अपनी आँकड़ा प्रणाली का आधुनिकीकरण करे ताकि सभी क्षेत्रों में विश्लेषण का समर्थन करना सुलभ हो। एनडीएपी द्वारा मेज़बानी किए जाने वाले आँकड़ों को कई श्रेणियों में रखा जाएगा और दृश्य एवं विश्लेषणात्मक उपकरणों की मदद से सुसंगत रूप से प्रस्तुत किया जाएगा।

ये आँकड़ों की आसान पुनर्प्राप्ति के लिए एक खोज इंजन को एकीकृत करेगा और “सहज नेविगेशन और विश्वस्तरीय यूजर इंटरफेस” से सहायता प्राप्त करेगा।

विचाराधीन आँकड़ों को विभिन्न केंद्र और राज्य मंत्रालयों से प्राप्त कराया जाएगा और इसे नियमित रूप से अपडेट किया जाएगा।

इस पहल की अगुवाई नीती आयोग के उपाध्यक्ष करेंगे जो पूरी प्रक्रिया की देखरेख करेंगे। त्रीय और तकनीकी विशेषज्ञों का एक तकनीकी सलाहकार समूह इस प्रक्रिया को चलाने में मदद करेगा। एनडीएपी के पहले संस्करण के 2021 में ऑनलाइन होने की उम्मीद है।