समाचार
चीन से पाकिस्तान जा रहे जहाज में मिला मिसाइल लॉन्चिंग प्रणाली संबंधी उपकरण

भारतीय कस्टम अधिकारियों ने पाकिस्तान जा रहे चीन के एक विदेशी जहाज को कब्जे में लिया है, जिसे संदिग्ध रूप से ऑटोक्लेव के रूप में चिह्नित किया गया है। जहाज में औद्योगिक ड्रायर मिला है, जिसका उपयोग परमाणु हथियार के लिए मिसाइल को लॉन्च करने वाले उपकरण के रूप में भी किया जाता है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना इस महीने की शुरुआत की है। 3 फरवरी को हॉन्ग-कॉन्ग जहाज, जो कराची के पोर्ट कासिम की ओर जा रहा था, उसे खुफिया सूचना के बाद गुजरात के कांडला बंदरगाह पर हिरासत में ले लिया गया था।

उसमें अधिकारियों ने निरीक्षण किया तो 18×4 मीटर का एक ऑटोक्लेव मिला। इसके बाद शीर्ष खुफिया अधिकारियों को सतर्क कर दिया गया और डीआरडीओ के वैज्ञानिकों का एक दल मौके पर पहुँचा। बरामद किए गए ऑटोक्लेव का उपयोग सैन्य और नागरिक दोनों उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, ऑटोक्लेव का उपयोग ठोस ईंधन बैलिस्टिक मिसाइलों के लिए सिलिका की चादरों से बनी मिश्रित परत के निर्माण में किया जाता है। भारतीय अधिकारियों को शक है कि मालवाहक पाकिस्तान और चीन के बीच परमाणु समझौते का हिस्सा हो सकता है।

डीआरडीओ ने अब परमाणु वैज्ञानिकों की एक अन्य टीम को ऑटोक्लेव की जाँच करने के लिए भेजा है। अगर दोनों टीमों के निष्कर्षों की पुष्टि हो जाती है तो उपकरण जब्त कर लिए जाएँगे। साथ ही निर्यात नियमों का उल्लंघन करने के लिए जहाज मालिकों से शुल्क लिया जाएगा।