समाचार
भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने, रेजांग ला की ऊँचाई पर कब्जे का प्रयास

लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच सोमवार की घटना के बाद एक बार फिर मंगलवार (8 सितंबर) को दोनों देश के सैनिक आमने-सामने आ गए। पैंगोंग के पास रेजांग ला में करीब 40 से 50 सैनिक दोनों ओर से एक-दूसरे के सामने हैं।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, इस क्षेत्र में भारतीय सेना के जवानों का कब्ज़ा है। चीन की ओर से कोशिश की जा रही है कि भारतीय जवानों को वहाँ से हटाया जाए और रेजांग ला की ऊँचाई पर कब्जा कर लिया जाए।

सूत्रों की मानें तो तीन दिन से चीन की यह कोशिश जारी है। भारतीय सैनिकों ने 29 और 30 अगस्त को ही इन चोटियों पर कब्जा कर लिया था। पैंगोंग के दक्षिणी क्षेत्र में कब्जा बनाने के लिए पड़ोसी देश घुसपैठ की कोशिश में है।

दरअसल, भारतीय सेना ने जब से काला टॉप, हेल्मेट टॉप और पैंगोंग 4 क्षेत्र के कुछ हिस्सों पर अपना कब्जा किया है, तभी से ही चीन बदले की भावना से कार्रवाई कर रहा है। ये क्षेत्र रणनीतिक तौर पर काफी अहम हैं। चीन की कोशिश है कि इन्हें तुरंत वापस ले लिया जाए, जिसमें वे सफल नहीं हो रहे हैं।

बता दें कि सोमवार की शाम को चीन की ओर से लद्दाख सीमा में घुसपैठ की कोशिश की गई। भारतीय जवानों ने उन्हें रोका तो पीएलए के जवानों ने हवा में गोलीबारी की। चीनी विदेश मंत्रालय, सेना और मीडिया ने भारत पर घुसपैठ का आरोप लगाया और गोलीबारी की बात कही। हालाँकि, भारतीय सेना ने अपने बयान में चीन के इस झूठ की सारी असलियत खोल दी।