समाचार
भारत चाहता है कि अमेरिका और ईरान के बीच सामान्य हो स्थिति

अमेरिका और ईरान के बीच चल रहे तनाव पर भारत ने अपना रुख साफ करते हुए कहा, “वह आशा करता है कि मध्य पूर्व में युद्ध को लेकर बन रही स्थितियों में कमी आएगी।”

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में जानकारी मिली कि ट्रंप प्रशासन क्षेत्र में बड़े पैमान पर सैन्य हमलों की योजना की तैयारी में जुटा हुआ है। इस बारे में जब यूएस में भारतीय राजदूत हर्षवर्द्धन श्रंगला से पूछा गया कि तो उन्होंने कहा, “हम उस क्षेत्र में किसी भी तरह का कदम नहीं उठाना चाहेंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “बहुत साधारण वजह है कि हम दुनिया के उस हिस्से की स्थिरता पर बहुत ज्यादा निर्भर हैं। उनकी आपूर्ति हमारी ऊर्जा आवश्यकताओं का एक प्रमुख हिस्सा है। खाड़ी में भी बड़ी संख्या में भारतीय काम करते हैं। इस वजह से जाहिर है कि उस क्षेत्र में शांति और स्थिरता बहुत ज़रूरी है।”

हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पत्रकारों को मध्य पूर्व में ईरान का मुकाबला करने के लिए सेना भेजने का इशारा किया था। उसके बाद भारत से भी शांत रहने की अपील की गई।

भारत ने संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्रतिबंधों से छूट का विस्तार करने से इनकार करने के बाद ईरान से तेल खरीदना बंद कर दिया है। अप्रैल के अंत में भारत ने ईरानी तेल पर अपनी निर्भरता एक महीने में लगभग 2.5 बिलियन टन से घटाकर 1 मिलियन टन कर दी है।