समाचार
यूएई और भारत की सुरक्षा एजोंसियों ने आईएस के भर्ती शिविर का किया भंडाफोड़

प्रत्यर्पण के साथ-साथ यूएई सरकार पिछले वर्ष से धीरे-धीरे इस्लमिक स्टेट (आईएस) के समर्थकों को भी निर्वासित कर रही है, इकोनॉमिक टाइम्स  ने रिपोर्ट किया। रिपोर्ट के अनुसार यूएई भारत के भी आईएस समर्थकों को निर्वासित कर रहा है जिसमें से दो जम्मू-कश्मीर के युवक हैं। भारतीय और यूएई सरकार के संयुक्त प्रयासों से भारतीय नागरिकों द्वारा अबू धाबी में चलाए जा रहे आईएस के भर्ती शिविर का भंडाफोड़ किया है।

तीन यूएई आधारित भारतीयों ने तमिल नाडु से 8 युवाओं और तेलंगाना से एक युवक को भर्ती किया था और उनमें से कुछ को आईएस से जुड़ने के लिए सीरिया भेजा था। इन तीन भर्तीकर्ताओं- कर्नाटक से अदनान हुसैन, महाराष्ट्र से मोहम्मद फरहान और कश्मीर से शेख अज़हर अल इस्लाम को गिरफ्तार करके भारत लाया गया।

अबू धाबी ने भारत से स्वैच्छिक रूप से आतंक कार्यकारियों और उनके नेटवर्क की जानकारी साझा की है। भारत और यूएई ने समझौता किया है कि कड़े कदम उठाए जाएँगे जिससे आतंकवादी उनके सुरक्षित ठिकानों पर छिपकर न रह सकें।