समाचार
भारत और इज़राइल ने किया मध्यम रेंज की मिसाइल रक्षा प्रणाली का सफल परीक्षण

मध्यम रेंज की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल रक्षा प्रणाली (एमआरएसएएम) का भारत और इज़राइल ने सफलतापूर्वक परीक्षण किया। युद्ध की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए संयुक्त रूप से इस प्रणाली को दोनों देशों ने विकसित किया।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, इज़राइल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज़ (आईएआई) ने मंगलवार (5 जनवरी) को बयान में कहा, “यह गत सप्ताह एक भारतीय परीक्षण केंद्र में किया गया था।”

आईएआई अध्यक्ष बोज लेवी ने कहा, “एमआरएसएएम वायु एवं मिसाइल रक्षा प्रणाली बेहद अत्याधुनिक और उन्नत है। इसने कई तरह के खतरों के खिलाफ अपनी बेहतरीन क्षमताओं को साबित किया है। वायु रक्षा प्रणाली का परीक्षण जटिल अभियान रहा क्योंकि कोविड-19 महामारी की वजह से चुनौतियाँ काफी अधिक थीं।”

परीक्षण में भारतीय वैज्ञानिकों, अधिकारियों और इज़राइली विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया था। एमआरएसएएम का उपयोग भारत की तीनों सेनाओं और इज़राइल रक्षा बलों (आईडीएफ) द्वारा किया जाएगा। इसमें उन्नत राडार, कमांड व नियंत्रक, मोबाइल लॉन्चर और अत्याधुनिक आरएफ अन्वेषक के साथ इंटरसेप्टर हैं।

एमआरएसएएम विभिन्न हवाई मंचों से संपूर्ण सुरक्षा प्रदान करती है। यह शत्रु विमान को 50 से 70 किलोमीटर की दूरी से भी मार गिरा सकती है। आईएआई और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने इसे संयुक्त रूप से विकसित किया है।