समाचार
भारत व चीन के बीच गोगरा हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्रों से सेना वापसी को लेकर 9 अप्रैल को वार्ता

पूर्वी लद्दाख में सैन्य गतिरोध को लेकर भारत और चीन के बीच 11वें दौर की वार्ता शुक्रवार (9 अप्रैल) को होगी। हालाँकि, दोनों पक्षों ने पहले से ही पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी तट (कैलाश रेंज पर) पर अपनी-अपनी सेनाओं को पीछे हटा लिया है।

दोनों देशों के संवाद के अगले दौर में गोगरा व हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र, जो पैंगोंग त्सो के उत्तर और अक्साई चिन क्षेत्र के उत्तर-पश्चिम में डेपसांग मैदानी क्षेत्र में स्थित है को लेकर वार्ता होगी।

हालाँकि, गोगरा व हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में भारत और चीन के बीच गतिरोध जल्द ही हल होने की संभावना है। फिर भी डेपसांग के मैदानी क्षेत्रों में विस्थापन की समस्या की जटिलता को देखते हुए अधिक समय लग सकता है।

सेना के उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी के अनुसार, डेपसांग में मौजूदा स्थिति एक विरासत का मुद्दा है।

बता दें कि 11वें दौर की वार्ता होने से पूर्व भारत ने ताइवान में हुई एक गंभीर रेलवे दुर्घटना, जिसमें 50 से अधिक लोगों की मृत्यु हो गई थी को लेकर ट्वीट करके सहानुभूति व्यक्त की थी। इस ट्वीट ने चीन को परेशान कर लिया था। उसने सीधे-सीधे भारत को चेतावनी दे दी थी कि अगर वह ताइवान का समर्थन करेगा तो चीन उत्तर-पूर्वी भारत में अलगाववादी ताकतों को समर्थन देने लगेगा।